जिगर मुरादाबादी | Jigar Muradabadi — एक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है | ek lafz-e-mohabbat ka adna ye fasaana hai

एक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है
सिमटे तो दिल-ए-आशिक़ फैले तो ज़माना है

ek lafz-e-mohabbat ka adna ye fasaana hai
simte to dil-e-aashiq phaile to zamaana hai

हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है
रोने को नहीं कोई हँसने को ज़माना है

hum ishq ke maaron ka itna hi fasaana hai
rone ko nahin koi hansne ko zamaana hai

क्या हुस्न ने समझा है क्या इश्क़ ने जाना है
हम ख़ाकनशीनों की ठोकर में ज़माना है

kya husn ne samjha hai kya ishq ne jaana hai
hum khaaknasheenon ki thokar mein zamaana hai

ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना ही समझ लीजे
एक आग का दरिया है और डूबके जाना है

ye ishq nahin aasaan itna hi samajh leeje
ek aag ka dariya hai aur doobke jaana hai

अश्कों के तबस्सुम में आहों के तरन्नुम में
मासूम मोहब्बत का मासूम फ़साना है

ashkon ke tabassum mein aahon ke tarannum mein
masoom mohabbat ka masoom fasaana hai

आँसू तो बहुत से हैं आँखों में ‘जिगर’ लेकिन
बिंध जाए सो मोती है रह जाए सो दाना है

aansu to bahut-se hain aankhon mein ‘Jigar’ lekin
bindh jaaye so moti hai rah jaaye so daana hai

Posted: 09-Dec-2020

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s