अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया | usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya

Translation: Turn On

उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया
हिज्र की रात बाम पर माह-ए-तमाम रख दिया

usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya
hijr ki raat baam par maah-e-tamam rakh diya

आमद-ए-दोस्त की नवेद कू-ए-वफ़ा में गर्म थी
मैंने भी एक चराग़-सा दिल सर-ए-शाम रख दिया

aamad-e-dost ki naved ku-e-vafa mein garm thi
mainne bhi ek charaagh-sa dil sar-e-shaam rakh diya

शिद्दत-ए-तिश्नगी में भी ग़ैरत-ए-मैकशी रही
उसने जो फेर ली नज़र मैंने भी जाम रख दिया

shiddat-e-tishnagi mein bhi ghairat-e-maikashi rahi
usne jo pher li nazar mainne bhi jaam rakh diya

उसने नज़र-नज़र में ही ऐसे भले सुख़न कहे
मैंने तो उसके पाँव में सारा कलाम रख दिया

usne nazar-nazar mein hi aise bhale sukhan kahe
mainne to uske paanv mein saara kalaam rakh diya

देखो ये मेरे ख़्वाब थे देखो ये मेरे ज़ख़्म हैं
मैं ने तो सब हिसाब-ए-जाँ बर सर-ए-आम रख दिया

dekho ye mere khvaab the dekho ye mere zakhm hain
mainne to sab hisaab-e-jaan bar sar-e-aam rakh diya

और ‘फ़राज़’ चाहिए कितनी मोहब्बतें तुझे
माँओं ने तेरे नाम पर बच्चों का नाम रख दिया

aur ‘Faraz’ chaahiye kitni mohabbatein tujhe
maaon ne tere naam par bachchon ka naam rakh diya

Posted: 17-Dec-2020

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s