मजरूह सुल्तानपुरी | Majrooh Sultanpuri — जब हुआ इरफ़ाँ तो ग़म आराम-ए-जाँ बनता गया | jab hua irfaan to gham aaraam-e-jaan banta gaya

Translation: Turn On

जब हुआ इरफ़ाँ तो ग़म आराम-ए-जाँ बनता गया
सोज़-ए-जानाँ दिल में सोज़-ए-दीगराँ बनता गया

jab hua irfaan to gham aaraam-e-jaan banta gaya
soz-e-janan dil men soz-e-deegaran banta gaya

रफ़्ता-रफ़्ता मुंक़लिब होती गई रस्म-ए-चमन
धीरे-धीरे नग़्मा-ए-दिल भी फ़ुग़ाँ बनता गया

rafta-rafta munqalib hoti gayi rasm-e-chaman
dheere-dheere naghma-e-dil bhi fughaan banta gaya

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया

main akela hi chala tha jaanib-e-manzil magar
log saath aate gaye aur kaarvaan banta gaya

मैं तो जब जानूँ कि भर दे साग़र-ए-हर-ख़ास-ओ-आम
यूँ तो जो आया वही पीर-ए-मुग़ाँ बनता गया

main to jab jaanoon ki bhar de saaghar-e-har-khaas-o-aam
yoon to jo aaya vahi peer-e-mughaan banta gaya

जिस तरफ़ भी चल पड़े हम आबला-पायान-ए-शौक़
ख़ार से गुल और गुल से गुलसिताँ बनता गया

jis taraf bhi chal pade ham aabla-paayaan-e-shauq
khaar se gul aur gul se gulsitan banta gaya

शरह-ए-ग़म तो मुख़्तसर होती गई उसके हुज़ूर
लफ़्ज़ जो मुँह से न निकला दास्ताँ बनता गया

sharh-e-gham to mukhtasar hoti gayi uske huzoor
lafz jo munh se na nikla daastaan banta gaya

दहर में ‘मजरूह’ कोई जाविदाँ मज़मूँ कहाँ
मैं जिसे छूता गया वो जाविदाँ बनता गया

dahr men ‘Majrooh’ koyi jaavidaan mazmoon kahaan
main jise chhoota gaya vo jaavidaan banta gaya

Posted: 09-Jan-2021

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s