अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — अबके हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें | abke hum bichhde to shaayad kabhi khvaabon mein milen

अबके हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

abke hum bichhde to shaayad kabhi khvaabon mein milein
jis tarah sookhe huye phool kitaabon mein milein

ढूँढ़ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें

dhoondh ujde huye logon mein vafa ke moti
ye khazaane tujhe mumkin hai kharaabon mein milein

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

gham-e-duniya bhi gham-e-yaar mein shaamil kar lo
nasha badhta hai sharaaben jo sharaabon mein milein

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा
दोनों इन्साँ हैं तो क्यों इतने हिजाबों में मिलें

tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa
donon insaan hain to kyon itne hijaabon mein milein

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें

aaj hum daar pe kheenche gaye jin baaton par
kya ajab kal vo zamaane ko nisaabon mein milein

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है ‘फ़राज़’
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें

ab na vo main na vo tu hai na vo maazi hai ‘Faraz’
jaise do shakhs tamanna ke saraabon mein milein

Posted: 23-Jan-2021

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s