अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — अबके हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें | abke hum bichhde to shaayad kabhi khvaabon mein milen

अबके हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

abke hum bichhde to shaayad kabhi khvaabon mein milein
jis tarah sookhe huye phool kitaabon mein milein

ढूँढ़ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें

dhoondh ujde huye logon mein vafa ke moti
ye khazaane tujhe mumkin hai kharaabon mein milein

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

gham-e-duniya bhi gham-e-yaar mein shaamil kar lo
nasha badhta hai sharaaben jo sharaabon mein milein

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा
दोनों इन्साँ हैं तो क्यों इतने हिजाबों में मिलें

tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa
donon insaan hain to kyon itne hijaabon mein milein

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें

aaj hum daar pe kheenche gaye jin baaton par
kya ajab kal vo zamaane ko nisaabon mein milein

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है ‘फ़राज़’
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें

ab na vo main na vo tu hai na vo maazi hai ‘Faraz’
jaise do shakhs tamanna ke saraabon mein milein

Posted: 23-Jan-2021

अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया | usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya

Translation: Turn On

उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया
हिज्र की रात बाम पर माह-ए-तमाम रख दिया

usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya
hijr ki raat baam par maah-e-tamam rakh diya

आमद-ए-दोस्त की नवेद कू-ए-वफ़ा में गर्म थी
मैंने भी एक चराग़-सा दिल सर-ए-शाम रख दिया

aamad-e-dost ki naved ku-e-vafa mein garm thi
mainne bhi ek charaagh-sa dil sar-e-shaam rakh diya

शिद्दत-ए-तिश्नगी में भी ग़ैरत-ए-मैकशी रही
उसने जो फेर ली नज़र मैंने भी जाम रख दिया

shiddat-e-tishnagi mein bhi ghairat-e-maikashi rahi
usne jo pher li nazar mainne bhi jaam rakh diya

उसने नज़र-नज़र में ही ऐसे भले सुख़न कहे
मैंने तो उसके पाँव में सारा कलाम रख दिया

usne nazar-nazar mein hi aise bhale sukhan kahe
mainne to uske paanv mein saara kalaam rakh diya

देखो ये मेरे ख़्वाब थे देखो ये मेरे ज़ख़्म हैं
मैं ने तो सब हिसाब-ए-जाँ बर सर-ए-आम रख दिया

dekho ye mere khvaab the dekho ye mere zakhm hain
mainne to sab hisaab-e-jaan bar sar-e-aam rakh diya

और ‘फ़राज़’ चाहिए कितनी मोहब्बतें तुझे
माँओं ने तेरे नाम पर बच्चों का नाम रख दिया

aur ‘Faraz’ chaahiye kitni mohabbatein tujhe
maaon ne tere naam par bachchon ka naam rakh diya

Posted: 17-Dec-2020

अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया | usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya (with English translation)

Translation: Turn Off

उसने सुकूत-ए-शब में भी अपना पयाम रख दिया
हिज्र की रात बाम पर माह-ए-तमाम रख दिया

usne sukoot-e-shab mein bhi apna payaam rakh diya
hijr ki raat baam par maah-e-tamam rakh diya

In the stillness of night they’ve sent a message and how
They’ve adorned this night of separation with the full moon now

आमद-ए-दोस्त की नवेद कू-ए-वफ़ा में गर्म थी
मैंने भी एक चराग़-सा दिल सर-ए-शाम रख दिया

aamad-e-dost ki naved ku-e-vafa mein garm thi
mainne bhi ek charaagh-sa dil sar-e-shaam rakh diya

There are glad tidings, my beloved’s visit is imminent
As the evening falls, my heart glows like a lamp now

शिद्दत-ए-तिश्नगी में भी ग़ैरत-ए-मैकशी रही
उसने जो फेर ली नज़र मैंने भी जाम रख दिया

shiddat-e-tishnagi mein bhi ghairat-e-maikashi rahi
usne jo pher li nazar mainne bhi jaam rakh diya

My thirst may be severe but my honor is unshakeable
Now that they disregard me, I lay down my goblet now

उसने नज़र-नज़र में ही ऐसे भले सुख़न कहे
मैंने तो उसके पाँव में सारा कलाम रख दिया

usne nazar-nazar mein hi aise bhale sukhan kahe
mainne to uske paanv mein saara kalaam rakh diya

In a few glances, they recited such wonderful verses
That I have offered up all my poetry at their feet now

देखो ये मेरे ख़्वाब थे देखो ये मेरे ज़ख़्म हैं
मैं ने तो सब हिसाब-ए-जाँ बर सर-ए-आम रख दिया

dekho ye mere khvaab the dekho ye mere zakhm hain
mainne to sab hisaab-e-jaan bar sar-e-aam rakh diya

These were my (unfulfilled) dreams, these are my wounds
Look, I have laid bare the full account of my life now

और ‘फ़राज़’ चाहिए कितनी मोहब्बतें तुझे
माँओं ने तेरे नाम पर बच्चों का नाम रख दिया

aur ‘Faraz’ chaahiye kitni mohabbatein tujhe
maaon ne tere naam par bachchon ka naam rakh diya

‘Faraz’, what more admiration and esteem can you ask for
Mothers have named sons after you, take a bow

Posted: 17-Dec-2020, Translation: 05-Dec-2020

अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते | silsile tod gaya vo sabhi jaate-jaate

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते
वर्ना इतने तो मरासिम थे कि आते-जाते

silsile tod gaya vo sabhi jaate-jaate
varna itne to maraasim the ki aate-jaate

शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था
अपने हिस्से की कोई शमआ जलाते जाते

shikva-e-zulmat-e-shab se to kaheen behtar tha
apne hisse ki koi shama jalaate jaate

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ
फिर भी एक उम्र लगी जान से जाते-जाते

kitna aasaan tha tere hijr mein marna jaanaan
phir bhi ek umr lagi jaan se jaate-jaate

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वर्ना हम भी
पा-ब-जौलाँ ही सही नाचते-गाते जाते

jashn-e-maqtal hi na barpa hua varna hum bhi
pa-ba-jaulaan hi sahi naachte-gaate jaate

उसकी वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था
तुम ‘फ़राज़’ अपनी तरफ़ से तो निभाते जाते

uski vo jaane use paas-e-vafa tha ki na tha
tum ‘Faraz’ apni taraf se to nibhaate jaate

Posted: 09-Dec-2020

अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — फिर इसी राहगुज़र पर शायद | phir isi raahguzar par shaayad

Translation: Turn On

फिर इसी राहगुज़र पर शायद
हम कभी मिल सकें मगर शायद

phir isi raahguzar par shaayad
hum kabhi mil saken magar shaayad

जिनके हम मुंतज़िर रहे उनको
मिल गए और हमसफ़र शायद

jinke hum muntazir rahe unko
mil gaye aur humsafar shaayad

जान-पहचान से भी क्या होगा
फिर भी ऐ दोस्त ग़ौर कर शायद

jaan-pehchaan se bhi kya hoga
phir bhi ae dost gaur kar shaayad

अजनबीयत की धुंध छट जाए
चमक उठे तेरी नजर शायद

ajnabiyat ki dhundh chhat jaaye
chamak utthe teri nazar shaayad

जो भी बिछड़े वो कब मिले हैं ‘फ़राज़’
फिर भी तू इंतज़ार कर शायद

jo bhi bichhde vo kab mile hain ‘Faraz’
phir bhi tu intezar kar shaayad

Posted: 06-Dec-2020

अहमद फ़राज़ | Ahmed Faraz — फिर इसी राहगुज़र पर शायद | phir isi raahguzar par shaayad (with English translation)

Translation: Turn Off

फिर इसी राहगुज़र पर शायद
हम कभी मिल सकें मगर शायद

phir isi raahguzar par shaayad
hum kabhi mil saken magar shaayad

Here on this pathway yet again, perhaps
I hope we meet once again, perhaps

जिनके हम मुंतज़िर रहे उनको
मिल गए और हमसफ़र शायद

jinke hum muntazir rahe unko
mil gaye aur humsafar shaayad

They who I have been long waiting for
Have traveled away with other companions, perhaps

जान-पहचान से भी क्या होगा
फिर भी ऐ दोस्त ग़ौर कर शायद

jaan-pehchaan se bhi kya hoga
phir bhi ae dost gaur kar shaayad

What good might come of a mere acquaintance
Yet it might not be all in vain, perhaps

अजनबीयत की धुंध छट जाए
चमक उठे तेरी नजर शायद

ajnabiyat ki dhundh chhat jaaye
chamak utthe teri nazar shaayad

The fog of unfamiliarity will fade away I hope
Your eyes will light up seeing me again, perhaps

जो भी बिछड़े वो कब मिले हैं ‘फ़राज़’
फिर भी तू इंतज़ार कर शायद

jo bhi bichhde vo kab mile hain ‘Faraz’
phir bhi tu intezar kar shaayad

Have the parted ones ever come back, ‘Faraz’
But why not await their return, perhaps

Posted: 06-Dec-2020; Translation: 06-Nov-2020