मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — कभी नेकी भी उसके जी में गर आ जाए है मुझसे | kabhi neki bhi uske ji mein gar aa jaaye hai mujhse

कभी नेकी भी उसके जी में गर आ जाए है मुझसे
जफ़ाएँ करके अपनी याद शरमा जाए है मुझसे

kabhi neki bhi uske ji mein gar aa jaaye hai mujhse
jafaayen karke apni yaad sharma jaaye hai mujhse

ख़ुदाया जज़्बा-ए-दिल की मगर तासीर उल्टी है
कि जितना खींचता हूँ और खिंचता जाए है मुझसे

khudaaya jazba-e-dil ki magar taaseer ulti hai
ki jitna kheenchta hoon aur khinchta jaaye hai mujhse

वो बदख़ू और मेरी दास्तान-ए-इश्क़ तूलानी
इबारत मुख़्तसर क़ासिद भी घबरा जाए है मुझसे

wo badkhu aur meri daastaan-e-ishq toolaani
ibaarat mukhtasar qaasid bhi ghabra jaaye hai mujhse

उधर वो बदगुमानी है इधर ये नातवानी है
न पूछा जाए है उससे न बोला जाए है मुझसे

udhar vo badgumaani hai idhar ye naatavaani hai
na poochha jaaye hai usase na bola jaaye hai mujhse

सँभलने दे मुझे ऐ नाउम्मीदी क्या क़यामत है
कि दामान-ए-ख़याल-ए-यार छूटा जाए है मुझसे

sambhalne de mujhe ae naaummeedi kya qayaamat hai
ki daamaan-e-khayal-e-yaar chhoota jaaye hai mujhse

तकल्लुफ़ बरतरफ़ नज़्ज़ारगी में भी सही लेकिन
वो देखा जाए कब ये ज़ुल्म देखा जाए है मुझसे

takalluf bartaraf nazzaargi mein bhi sahi lekin
vo dekha jaaye kab ye zulm dekha jaaye hai mujhse

हुए हैं पाँव ही पहले नबर्द-ए-इश्क़ में ज़ख़्मी
न भागा जाए है मुझसे न ठहरा जाए है मुझसे

huye hain paanv hi pehle nabard-e-ishq mein zakhmi
na bhaaga jaaye hai mujhse na thehra jaaye hai mujhse

क़यामत है कि होवे मुद्दई का हमसफ़र ‘ग़ालिब’
वो काफ़िर जो ख़ुदा को भी न सौंपा जाए है मुझसे

qayaamat hai ki hove muddai ka humsafar ‘Ghalib’
vo kaafir jo khuda ko bhi na saunpa jaaye hai mujhse

Posted: 23-Jan-2021

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई | ibn-e-mariyam hua kare koyi (with English translation)

Translation: Turn Off

इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई
मेरे दुख की दवा करे कोई

ibn-e-mariyam hua kare koyi
mere dukh ki dava kare koyi

Be (like) the son of Maryam, can anyone?
And alleviate my suffering, can anyone?

बात पर वाँ ज़बान कटती है
वो कहें और सुना करे कोई

baat par vaan zabaan katati hai
vo kahein aur suna kare koyi

Speak not much lest you be silenced forever
Only they are privileged to speak, not anyone

बक रहा हूँ जुनूँ में क्या-क्या कुछ
कुछ न समझे ख़ुदा करे कोई

bak raha hoon junoon mein kya-kya kuchh
kuchh na samjhe khuda kare koyi

My raves and rants in this fit of frenzy
O Lord! may none comprehend, I pray, noone

न सुनो गर बुरा कहे कोई
न कहो गर बुरा करे कोई

na suno gar bura kahe koyi
na kaho gar bura kare koyi

Turn a deaf ear to one speaking ill of another
And gossip not about the bad deeds of anyone

कौन है जो नहीं है हाजतमंद
किसकी हाजत रवा करे कोई

kaun hai jo nahin hai haajatmand
kiski haajat rava kare koyi

Not only I, everyone has needs and wants
Whose wish does he fulfil then, that someone

जब तवक़्क़ो ही उठ गई ‘ग़ालिब’
क्यों किसीका गिला करे कोई

jab tawaqqo hi uth gayi ‘Ghalib’
kyon kiseeka gila kare koyi

Now that you have given up all hope, Ghalib
What reason then, to complain or blame anyone

Posted: 25-Dec-2020, Translation: 12-Oct-2020

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई | ibn-e-mariyam hua kare koyi

Translation: Turn On

इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई
मेरे दुख की दवा करे कोई

ibn-e-mariyam hua kare koyi
mere dukh ki dava kare koyi

बात पर वाँ ज़बान कटती है
वो कहें और सुना करे कोई

baat par vaan zabaan katati hai
vo kahein aur suna kare koyi

बक रहा हूँ जुनूँ में क्या-क्या कुछ
कुछ न समझे ख़ुदा करे कोई

bak raha hoon junoon mein kya-kya kuchh
kuchh na samjhe khuda kare koyi

न सुनो गर बुरा कहे कोई
न कहो गर बुरा करे कोई

na suno gar bura kahe koyi
na kaho gar bura kare koyi

कौन है जो नहीं है हाजतमंद
किसकी हाजत रवा करे कोई

kaun hai jo nahin hai haajatmand
kiski haajat rava kare koyi

जब तवक़्क़ो ही उठ गई ‘ग़ालिब’
क्यों किसीका गिला करे कोई

jab tawaqqo hi uth gayi ‘Ghalib’
kyon kiseeka gila kare koyi

Posted: 25-Dec-2020

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — कोई उम्मीद बर नहीं आती | koi ummeed bar naheen aati (with English translation)

Translation: Turn Off

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

koi ummeed bar naheen aati
koi soorat nazar naheen aati

All hope to no avail, nor a chance slight
No way out of here, there is no respite

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रातभर नहीं आती

maut ka ek din muayyan hai
neend kyon raatbhar naheen aati

Death will arrive one day, it is but certain
Why does then one lie sleepless all night?

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

aage aati thi haal-e-dil pe hansi
ab kisi baat par naheen aati

Alas! there is nothing that amuses me now
Erst, I could jest at my own heart’s plight

है कुछ ऐसी-ही बात जो चुप हूँ
वर्ना क्या बात कर नहीं आती

hai kuchh aisi-hi baat jo chup hoon
varna kya baat kar naheen aati

Such is the matter that it compels my silence
Else, haven’t I been always very forthright?

मरते हैं आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

marte hain aarzu mein marne ki
maut aati hai par naheen aati

This constant longing for death that I have
Is almost like death, yet not death quite

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुमको मगर नहीं आती

kaaba kis munh se jaaoge ‘Ghalib’
sharm tumko magar naheen aati

How might you ever face the Kaaba, ‘Ghalib’?
You’ve had no faith, neither are you contrite

Posted: 23-Dec-2020, Translation: 09-Oct-2019

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — कोई उम्मीद बर नहीं आती | koi ummeed bar naheen aati

Translation: Turn On

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

koi ummeed bar naheen aati
koi soorat nazar naheen aati

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रातभर नहीं आती

maut ka ek din muayyan hai
neend kyon raatbhar naheen aati

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

aage aati thi haal-e-dil pe hansi
ab kisi baat par naheen aati

है कुछ ऐसी-ही बात जो चुप हूँ
वर्ना क्या बात कर नहीं आती

hai kuchh aisi-hi baat jo chup hoon
varna kya baat kar naheen aati

मरते हैं आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

marte hain aarzu mein marne ki
maut aati hai par naheen aati

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुमको मगर नहीं आती

kaaba kis munh se jaaoge ‘Ghalib’
sharm tumko magar naheen aati

Posted: 23-Dec-2020

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — है बस-कि हर एक उनके इशारे में निशाँ और | hai bas-ki har ek unke ishaare mein nishaan aur

है बस-कि हर एक उनके इशारे में निशाँ और
करते हैं मोहब्बत तो गुज़रता है गुमाँ और

hai bas-ki har ek unke ishaare mein nishaan aur
karte hain mohabbat to guzarta hai gumaan aur

यारब वो न समझे हैं न समझेंगे मेरी बात
दे और दिल उनको जो न दे मुझको ज़बाँ और

yaarab vo na samjhe hain na samjhenge meri baat
de aur dil unko jo na de mujhko zabaan aur

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएँगे बाज़ार से जाकर दिल-ओ-जाँ और

tum shehar mein ho to hamen kya gham jab uthenge
le aayenge baazaar se jaakar dil-o-jaan aur

लेता, न अगर दिल तुम्हें देता, कोई दम चैन
करता, जो न मरता, कोई दिन आह-ओ-फ़ुग़ाँ और

leta, na agar dil tumhein deta, koi dam chain
karta, jo na marta, koyi din aah-o-fughaan aur

पाते नहीं जब राह तो चढ़ जाते हैं नाले
रुकती है मेरी तबअ तो होती है रवाँ और

paate nahin jab raah to chadh jaate hain naale
rukti hai meri tab’a to hoti hai ravaan aur

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

hain aur bhi duniya mein sukhanvar bahut achchhe
kehte hain ki ‘Ghalib’ ka hai andaaz-e-bayaan aur

Posted: 11-Dec-2020

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए | muddat huyi hai yaar ko mehmaan kiye huye

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए

muddat huyi hai yaar ko mehmaan kiye huye
josh-e-qadah se bazm charaaghan kiye huye

बाहम-दिगर हुए हैं दिल-ओ-दीदा फिर रक़ीब
नज़्ज़ारा-ओ-ख़याल का सामाँ किए हुए

baaham-digar huye hain dil-o-deeda phir raqeeb
nazzaara-o-khayaal ka saamaan kiye huye

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किए हुए

phir shauq kar raha hai khareedaar ki talab
arz-e-mataa-e-aql-o-dil-o-jaan kiye huye

फिर जी में है कि दर पे किसीके पड़े रहें
सर ज़ेर-बार-ए-मिन्नत-ए-दरबाँ किए हुए

phir ji mein hai ki dar pe kiseeke pade rahen
sar zer-baar-e-minnat-e-darbaan kiye huye

जी ढूँढ़ता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात-दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए

ji dhoondhta hai phir vahi fursat ki raat-din
baithe rahen tasavvur-e-jaanan kiye huye

‘ग़ालिब’ हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से
बैठे हैं हम तहिया-ए-तूफ़ाँ किए हुए

‘Ghalib’ hamen na chhed ki phir josh-e-ashk se
baithe hain hum tahiya-e-toofaan kiye huye

Posted: 09-Dec-2020

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है | dil-e-nadaan tujhe hua kya hai (with English translation)

Translation: Turn Off

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

dil-e-nadaan tujhe hua kya hai
aakhir is dard ki davaa kya hai

What has afflicted you, my naive heart, my mind
A cure for this malady, is there one, can one find?

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है

hum hain mushtaaq aur vo bezaar
ya ilaahi ye maajra kya hai

My desire is ardent, while they1 remain indifferent
O Lord! What a predicament, what a bind

हमको उनसे वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते कि वफ़ा क्या है

humko unse vafa ki hai ummeed
jo nahin jaante ke vafa kya hai

Why have I the expectation of their1 reciprocation
They1 who are to my love and devotion, blind

मैं भी मुँह में ज़बान रखता हूँ
काश पूछो कि मुद्दआ क्या है

main bhi munh mein zabaan rakhta hoon
kaash poochho ke mudda’aa kya hai

I do have the heart and the tongue for it
But only if you ask, shall I speak my mind

मैंने माना कि कुछ नहीं है ‘ग़ालिब’
मुफ़्त हाथ आए तो बुरा क्या है

mainne maana ke kuchh nahin hai ‘Ghalib’
muft haath aaye to bura kya hai

I admit he isn’t worth much, is he? that Ghalib!
But to get him gratis, surely, one wouldn’t mind?!

Notes:
1. Singular they is the use in English of the pronoun they or its inflected or derivative forms, them, their, theirs, and themselves (or themself), as an epicene (gender-neutral) singular pronoun
https://en.wikipedia.org/wiki/Singular_they

Posted: 15-Nov-2020; Translation: 01-Nov-2019

मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है | dil-e-nadaan tujhe hua kya hai

Translation: Turn On

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

dil-e-nadaan tujhe hua kya hai
aakhir is dard ki davaa kya hai

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माजरा क्या है

hum hain mushtaaq aur vo bezaar
ya ilaahi ye maajra kya hai

हमको उनसे वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते कि वफ़ा क्या है

humko unse vafa ki hai ummeed
jo nahin jaante ke vafa kya hai

मैं भी मुँह में ज़बान रखता हूँ
काश पूछो कि मुद्दआ क्या है

main bhi munh mein zabaan rakhta hoon
kaash poochho ke mudda’aa kya hai

मैंने माना कि कुछ नहीं है ‘ग़ालिब’
मुफ़्त हाथ आए तो बुरा क्या है

mainne maana ke kuchh nahin hai ‘Ghalib’
muft haath aaye to bura kya hai

Posted: 15-Nov-2020