मोमिन ख़ाँ मोमिन | Momin Khan Momin — असर उसको ज़रा नहीं होता | asar usko zara naheen hota

असर उसको ज़रा नहीं होता
रंज राहतअफ़्ज़ा नहीं होता

asar usko zara naheen hota
ranj raahatafza naheen hota

तुम हमारे किसी तरह न हुए
वरना दुनिया में क्या नहीं होता

tum hamaare kisi tarah na huye
varna duniya mein kya naheen hota

तुम मेरे पास होते हो गोया
जब कोई दूसरा नहीं होता

tum mere paas hote ho goya
jab koi doosra naheen hota

हाल-ए-दिल यार को लिखूँ क्योंकर
हाथ दिल से जुदा नहीं होता

haal-e-dil yaar ko likhoon kyonkar
haath dil se juda naheen hota

दामन उसका जो है दराज़ तो हो
दस्त-ए-आशिक़ रसा नहीं होता

daaman uska jo hai daraaz to ho
dast-e-aashiq rasa naheen hota

क्यों सुने अर्ज़-ए-मुज़्तरिब ऐ ‘मोमिन’
सनम आख़िर ख़ुदा नहीं होता

kyun sune arz-e-muztarib ae ‘Momin’
sanam aakhir khuda naheen hota

Posted: 10-Dec-2020