फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — आपकी याद आती रही रातभर | aapki yaad aati rahi raatbhar (with English translation)

Translation: Turn Off

आपकी याद आती रही रातभर*
चाँदनी दिल दुखाती रही रातभर

aapki yaad aati rahi raatbhar*
chaandni dil dukhaati rahi raatbhar

Memories of you kept recurring, all through the night
Moonlight tormented my heart, all through the night

गाह जलती हुई गाह बुझती हुई
शम्म-ए-ग़म झिलमिलाती रही रातभर

gah jalti hui gah bujhti hui
shamm-e-gham jhilmilaati rahi raatbhar

Bright and dim, intense and mild, capriciously
The flame of affliction flickered on, all through the night

कोई ख़ुशबू बदलती रही पैरहन
कोई तस्वीर गाती रही रातभर

koyi khushbu badalti rahi pairahan
koyi tasveer gaati rahi raatbhar

A fragrance kept transforming as it wafted around
An image kept singing to me, all through the night

फिर सबा साया-ए-शाख़-ए-गुल के तले
कोई क़िस्सा सुनाती रही रातभर

phir saba saaya-e-shaakh-e-gul ke tale
koi qissa sunaati rahi raatbhar

Once again, a zephyr whispered beneath the flowering branches
And narrated a tale, all through the night

जो न आया उसे कोई ज़ंजीर-ए-दर
हर सदा पर बुलाती रही रातभर

jo na aaya use koyi zanjeer-e-dar
har sada par bulaati rahi raatbhar

The chain on the door, with every clink, called out
To the one who never arrived, all through the night

एक उम्मीद से दिल बहलता रहा
एक तमन्ना सताती रही रातभर

ek ummeed se dil bahalta raha
ek tamanna sataati rahi raatbhar

The heart held on to that one hope, yet
The yearning anguished me, all through the night

* मख़्दूम की याद में – १९७८ | Penned by Faiz in 1978 in memory of Makhdoom Mohiuddin (1908 – 1969)

Posted: 20-Feb-2021, Translation: 20-Feb-2021

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — आपकी याद आती रही रातभर | aapki yaad aati rahi raatbhar

Translation: Turn On

आपकी याद आती रही रातभर*
चाँदनी दिल दुखाती रही रातभर

aapki yaad aati rahi raatbhar*
chaandni dil dukhaati rahi raatbhar

गाह जलती हुई गाह बुझती हुई
शम्म-ए-ग़म झिलमिलाती रही रातभर

gah jalti hui gah bujhti hui
shamm-e-gham jhilmilaati rahi raatbhar

कोई ख़ुशबू बदलती रही पैरहन
कोई तस्वीर गाती रही रातभर

koyi khushbu badalti rahi pairahan
koyi tasveer gaati rahi raatbhar

फिर सबा साया-ए-शाख़-ए-गुल के तले
कोई क़िस्सा सुनाती रही रातभर

phir saba saaya-e-shaakh-e-gul ke tale
koi qissa sunaati rahi raatbhar

जो न आया उसे कोई ज़ंजीर-ए-दर
हर सदा पर बुलाती रही रातभर

jo na aaya use koyi zanjeer-e-dar
har sada par bulaati rahi raatbhar

एक उम्मीद से दिल बहलता रहा
एक तमन्ना सताती रही रातभर

ek ummeed se dil bahalta raha
ek tamanna sataati rahi raatbhar

* मख़्दूम की याद में – १९७८ | Penned by Faiz in 1978 in memory of Makhdoom Mohiuddin (1908 – 1969)

Posted: 20-Feb-2021

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — कब याद में तेरा साथ नहीं | kab yaad mein tera saath naheen

कब याद में तेरा साथ नहीं कब हाथ में तेरा हाथ नहीं
सद-शुक्र कि अपनी रातों में अब हिज्र की कोई रात नहीं

kab yaad mein tera saath naheen kab haath mein tera haath naheen
sad-shukr ki apni raaton mein ab hijr ki koyi raat naheen

मुश्किल हैं अगर हालात वहाँ दिल बेच आएँ जाँ दे आएँ
दिलवालो कूचा-ए-जानाँ में क्या ऐसे भी हालात नहीं

mushkil hain agar haalat vahaan dil bech aayein jaan de aayein
dilvaalo koocha-e-jaanaan mein kya aise bhi haalaat naheen

जिस धज से कोई मक़्तल में गया वो शान सलामत रहती है
ये जान तो आनी-जानी है इस जाँ की तो कोई बात नहीं

jis dhaj se koyi maqtal mein gaya vo shaan salaamat rehti hai
ye jaan to aani-jaani hai is jaan ki to koyi baat naheen

मैदान-ए-वफ़ा दरबार नहीं याँ नाम-ओ-नसब की पूछ कहाँ
आशिक़ तो किसी का नाम नहीं कुछ इश्क़ किसी की ज़ात नहीं

maidaan-e-vafa darbaar naheen yaan naam-o-nasab ki poochh kahan
aashiq to kisi ka naam naheen kuchh ishq kisi ki zaat naheen

गर बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा
गर जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं

gar baazi ishq ki baazi hai jo chaaho laga do dar kaisa
gar jeet gaye to kya kehna haare bhi to baazi maat naheen

Posted: 06-Feb-2021

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — ये धूप किनारा शाम ढले | ye dhoop kinaara shaam dhale (with English translation)

Translation: Turn Off

ये धूप किनारा शाम ढले
मिलते हैं दोनों वक़्त जहाँ
जो रात न दिन जो आज न कल
पलभर को अमर पलभर में धुआँ

ye dhoop kinaara shaam dhale
milte hain donon vaqt jahaan
jo raat na din jo aaj na kal
palbhar ko amar palbhar mein dhuaan

When the rays of the sun
At dusk, to the horizon retreat
This occasion when day and night meet
Neither light nor dark, this day nor next
Feels eternal for a moment, and vanishes the next


इस धूप किनारे पल-दो-पल
होंठों की लपक बाँहों की खनक
ये मेल हमारा झूठ न सच

is dhoop kinaare pal-do-pal
honthon ki lapak baanhon ki khanak
ye mel hamaara jhooth na sach

The light at the edge receding
When for a moment or two fleeting
Lips quiver, arms clink in meeting
This union of ours, while not unreal
Is but like a dream, ephemeral


क्यों रार करो क्यों दोष धरो
किस कारण झूठी बात करो

kyon raar karo kyon dosh dharo
kis kaaran jhoothi baat karo

Why then argue, why nitpick, why contend?
Why deceive or distrust, to what end?


जब तेरी समंदर आँखों में
इस शाम का सूरज डूबेगा
सुख सोएँगे घर-दरवाले
और राही अपनी राह लेगा

jab teri samandar aankhon mein
is shaam ka sooraj doobega
sukh soyenge ghar-darvaale
aur raahi apni raah lega

Into the ocean of your eyes
When the sun does soon descend
Those at home will settle into blissful sleep, and
The traveler shall his way wend

Posted: 02-Jan-2021, Translation: 12-Oct-2020

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — ये धूप किनारा शाम ढले | ye dhoop kinaara shaam dhale

Translation: Turn On

ये धूप किनारा शाम ढले
मिलते हैं दोनों वक़्त जहाँ
जो रात न दिन जो आज न कल
पलभर को अमर पलभर में धुआँ

ye dhoop kinaara shaam dhale
milte hain donon vaqt jahaan
jo raat na din jo aaj na kal
palbhar ko amar palbhar mein dhuaan


इस धूप किनारे पल-दो-पल
होंठों की लपक बाँहों की खनक
ये मेल हमारा झूठ न सच

is dhoop kinaare pal-do-pal
honthon ki lapak baanhon ki khanak
ye mel hamaara jhooth na sach


क्यों रार करो क्यों दोष धरो
किस कारण झूठी बात करो

kyon raar karo kyon dosh dharo
kis kaaran jhoothi baat karo


जब तेरी समंदर आँखों में
इस शाम का सूरज डूबेगा
सुख सोएँगे घर-दरवाले
और राही अपनी राह लेगा

jab teri samandar aankhon mein
is shaam ka sooraj doobega
sukh soyenge ghar-darvaale
aur raahi apni raah lega

Posted: 02-Jan-2021

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — दश्त-ए-तन्हाई में ऐ जान-ए-जहाँ लरज़ाँ हैं | dasht-e-tanhaai mein ae jaan-e-jahaan larzaan hain (with English translation)

Translation: Turn Off

दश्त-ए-तन्हाई में ऐ जान-ए-जहाँ लरज़ाँ हैं
तेरी आवाज़ के साये तेरे होंठों के सराब
दश्त-ए-तन्हाई में दूरी के ख़स-ओ-ख़ाक तले
खिल रहे हैं तेरे पहलू के समन और गुलाब

dasht-e-tanhaai mein ae jaan-e-jahaan larzaan hain
teri awaaz ke saaye tere honthon ke saraab
dasht-e-tanhaai mein doori ke khas-o-khaak tale
khil rahe hain tere pehlu ke saman aur gulaab

In the desert of my loneliness, my beloved, I see
The trembling shadows of your voice, the quivering mirages of your lips
In the desert of my loneliness, I sense your presence
In the jasmines and roses that bloom beneath the distant shrubs and sand


उठ रही है कहीं क़ुर्बत से तेरी साँस की आँच
अपनी ख़ुशबू में सुलगती हुई मद्धम-मद्धम
दूर उफ़क़ पर चमकती हुई क़तरा-क़तरा
गिर रही है तेरी दिलदार नज़र की शबनम

uth rahee hai kahin qurbat se teri saans ki aanch
apni khushbu mein sulagti huyi maddham-maddham
door ufaq par chamkati huyi qatra-qatra
gir rahi hai teri dildaar nazar ki shabnam

In close nearness, I sense, the rising warmth of your breath
As it burns slowly in fragrant incense
On the distant horizon, I see, a trickle
Of glistening dewdrops of the look of love in your eyes


इस क़दर प्यार से ऐ जान-ए-जहाँ रक्खा है
दिल के रुख़सार पे इस वक़्त तेरी याद ने हाथ
यूँ गुमाँ होता है गरचे है अभी सुब्ह-ए-फ़िराक़
ढल गया हिज्र का दिन आ भी गई वस्ल की रात

is qadar pyar se ae jaan-e-jahaan rakkha hai
dil ke rukhsar pe is vaqt teri yaad ne haath
yoon gumaan hota hai garche hai abhi subh-e-firaaq
dhal gaya hijr ka din aa bhi gayi vasl ki raat

At this moment, my beloved, the gentle hand of your memory
Caresses the countenance of my heart with such love sheer
It appears that, though this is the morning of our parting
The day of our separation has passed, the night of our union is here

Posted: 8-Dec-2020, Translation: 17-Oct-2020

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — दश्त-ए-तन्हाई में ऐ जान-ए-जहाँ लरज़ाँ हैं | dasht-e-tanhaai mein ae jaan-e-jahaan larzaan hain

Translation: Turn On

दश्त-ए-तन्हाई में ऐ जान-ए-जहाँ लरज़ाँ हैं
तेरी आवाज़ के साये तेरे होंठों के सराब
दश्त-ए-तन्हाई में दूरी के ख़स-ओ-ख़ाक तले
खिल रहे हैं तेरे पहलू के समन और गुलाब

dasht-e-tanhaai mein ae jaan-e-jahaan larzaan hain
teri awaaz ke saaye tere honthon ke saraab
dasht-e-tanhaai mein doori ke khas-o-khaak tale
khil rahe hain tere pehlu ke saman aur gulaab


उठ रही है कहीं क़ुर्बत से तेरी साँस की आँच
अपनी ख़ुशबू में सुलगती हुई मद्धम-मद्धम
दूर उफ़क़ पर चमकती हुई क़तरा-क़तरा
गिर रही है तेरी दिलदार नज़र की शबनम

uth rahee hai kahin qurbat se teri saans ki aanch
apni khushbu mein sulagti huyi maddham-maddham
door ufaq par chamkati huyi qatra-qatra
gir rahi hai teri dildaar nazar ki shabnam


इस क़दर प्यार से ऐ जान-ए-जहाँ रक्खा है
दिल के रुख़सार पे इस वक़्त तेरी याद ने हाथ
यूँ गुमाँ होता है गरचे है अभी सुब्ह-ए-फ़िराक़
ढल गया हिज्र का दिन आ भी गई वस्ल की रात

is qadar pyar se ae jaan-e-jahaan rakkha hai
dil ke rukhsar pe is vaqt teri yaad ne haath
yoon gumaan hota hai garche hai abhi subh-e-firaaq
dhal gaya hijr ka din aa bhi gayi vasl ki raat

Posted: 8-Dec-2020

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — मुझसे पहली-सी मोहब्बत मेरी महबूब न माँग | mujhse pehli-si mohabbat meri mehboob na maang

मुझसे पहली-सी मोहब्बत मेरी महबूब न माँग

mujhse pehli-si mohabbat meri mehboob na maang


मैंने समझा था कि तू है तो दरख़्शाँ है हयात
तेरा ग़म है तो ग़म-ए-दहर का झगड़ा क्या है
तेरी सूरत से है आलम में बहारों को सबात
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है
तू जो मिल जाए तो तक़्दीर निगूँ हो जाए
यूँ न था मैंने फ़क़त चाहा था कि यूँ हो जाए

mainne samjha tha ki tu hai to darakshaan hai hayaat
tera gham hai to gham-e-dahr ka jhagda kya hai
teri soorat se hai aalam mein bahaaron ko sabaat
teri aankhon ke siva duniya mein rakkha kya hai
tu jo mil jaaye to taqdeer nigoon ho jaaye
yoon na tha mainne faqat chaaha tha ki yoon ho jaaye


और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

aur bhi dukh hain zamaane mein mohabbat ke siva
raahaten aur bhi hain vasl ki raahat ke siva


अनगिनत सदियों के तारीक बहीमाना तिलिस्म
रेशम-ओ-अतलस-ओ-कमख़्वाब में बुनवाए हुए
जा-ब-जा बिकते हुए कूचा-ओ-बाज़ार में जिस्म
ख़ाक में लिथड़े हुए ख़ून में नहलाए हुए
जिस्म निकले हुए अमराज़ के तन्नूरों से
पीप बहती हुई गलते हुए नासूरों से
लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे

anginat sadiyon ke tareek bahimaana tilism
resham-o-atlas-o-kamkhvaab mein bunwaaye huye
jaa-ba-jaa bikte huye koocha-o-baazar mein jism
khaak mein lithde huye khoon mein nahlaaye hue
jism nikle huye amraaz ke tannooron se
peep behti huyi galte huye naasooron se
laut jaati hai udhar ko bhi nazar kya keeje
ab bhi dilkash hai tera husn magar kya keeje


और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

aur bhi dukh hain zamaane mein mohabbat ke siva
raahaten aur bhi hain vasl ki raahat ke siva


मुझसे पहली-सी मोहब्बत मेरी महबूब न माँग

mujhse pehli-si mohabbat meri mehboob na maang

Posted: 8-Dec-2020