साहिर लुधियानवी | Sahir Ludhianvi — चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों | chalo ek baar phir se ajnabi ban jaayen hum donon

चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों

chalo ek baar phir se ajnabi ban jaayen hum donon


न मैं तुम से कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो ग़लतअंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाए मेरी बातों में
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कश-म-कश का राज़ नज़रों से

na main tum se koi ummeed rakhoon dilnawaazi ki
na tum meri taraf dekho ghalatandaz nazron se
na mere dil ki dhadkan ladkhadaye meri baaton mein
na zaahir ho tumhaari kash-ma-kash ka raaz nazron se


तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेशक़दमी से
मुझे भी लोग कहते हैं कि ये जलवे पराए हैं
मेरे हमराह भी रुसवाइयाँ हैं मेरे माज़ी की
तुम्हारे साथ भी गुज़री हुई रातों के साए हैं

tumhein bhi koi uljhan rokti hai peshqadmi se
mujhe bhi log kahte hain ki ye jalwe paraaye hain
mere hamraah bhi rusvaaiyaan hain mere maazi ki
tumhaare saath bhi guzri hui raaton ke saaye hain


तआरुफ़ रोग हो जाए तो उसको भूलना बेहतर
तअल्लुक़ बोझ बन जाए तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन
उसे इक ख़ूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा

ta’aaruf rog ho jaaye to usko bhoolna behtar
ta’alluq bojh ban jaaye to usko todna achchha
vo afsaana jise anjaam tak laana na ho mumkin
use ek khoobsoorat mod dekar chhodna achchha


चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों

chalo ek baar phir se ajnabi ban jaayen hum donon

Posted: 8-Dec-2020

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s