फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Faiz Ahmed Faiz — कब याद में तेरा साथ नहीं | kab yaad mein tera saath naheen

कब याद में तेरा साथ नहीं कब हाथ में तेरा हाथ नहीं
सद-शुक्र कि अपनी रातों में अब हिज्र की कोई रात नहीं

kab yaad mein tera saath naheen kab haath mein tera haath naheen
sad-shukr ki apni raaton mein ab hijr ki koyi raat naheen

मुश्किल हैं अगर हालात वहाँ दिल बेच आएँ जाँ दे आएँ
दिलवालो कूचा-ए-जानाँ में क्या ऐसे भी हालात नहीं

mushkil hain agar haalat vahaan dil bech aayein jaan de aayein
dilvaalo koocha-e-jaanaan mein kya aise bhi haalaat naheen

जिस धज से कोई मक़्तल में गया वो शान सलामत रहती है
ये जान तो आनी-जानी है इस जाँ की तो कोई बात नहीं

jis dhaj se koyi maqtal mein gaya vo shaan salaamat rehti hai
ye jaan to aani-jaani hai is jaan ki to koyi baat naheen

मैदान-ए-वफ़ा दरबार नहीं याँ नाम-ओ-नसब की पूछ कहाँ
आशिक़ तो किसी का नाम नहीं कुछ इश्क़ किसी की ज़ात नहीं

maidaan-e-vafa darbaar naheen yaan naam-o-nasab ki poochh kahan
aashiq to kisi ka naam naheen kuchh ishq kisi ki zaat naheen

गर बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा
गर जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं

gar baazi ishq ki baazi hai jo chaaho laga do dar kaisa
gar jeet gaye to kya kehna haare bhi to baazi maat naheen

Posted: 06-Feb-2021

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s