मिर्ज़ा ग़ालिब | Mirza Ghalib — है बस-कि हर एक उनके इशारे में निशाँ और | hai bas-ki har ek unke ishaare mein nishaan aur

है बस-कि हर एक उनके इशारे में निशाँ और
करते हैं मोहब्बत तो गुज़रता है गुमाँ और

hai bas-ki har ek unke ishaare mein nishaan aur
karte hain mohabbat to guzarta hai gumaan aur

यारब वो न समझे हैं न समझेंगे मेरी बात
दे और दिल उनको जो न दे मुझको ज़बाँ और

yaarab vo na samjhe hain na samjhenge meri baat
de aur dil unko jo na de mujhko zabaan aur

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएँगे बाज़ार से जाकर दिल-ओ-जाँ और

tum shehar mein ho to hamen kya gham jab uthenge
le aayenge baazaar se jaakar dil-o-jaan aur

लेता, न अगर दिल तुम्हें देता, कोई दम चैन
करता, जो न मरता, कोई दिन आह-ओ-फ़ुग़ाँ और

leta, na agar dil tumhein deta, koi dam chain
karta, jo na marta, koyi din aah-o-fughaan aur

पाते नहीं जब राह तो चढ़ जाते हैं नाले
रुकती है मेरी तबअ तो होती है रवाँ और

paate nahin jab raah to chadh jaate hain naale
rukti hai meri tab’a to hoti hai ravaan aur

हैं और भी दुनिया में सुख़नवर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

hain aur bhi duniya mein sukhanvar bahut achchhe
kehte hain ki ‘Ghalib’ ka hai andaaz-e-bayaan aur

Posted: 11-Dec-2020

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s